ब्रह्मा जी के कितने पुत्र थे?

कई लोगो के मन मे ये सवाल आया होगा की ब्रह्मा जी के कितने पुत्र थे? और इस लेख के दोरान मे इस सवाल का आपको जवाब दुगा। और संजाउगा की किस तरहा ब्रह्मा जी के पुत्र का जन्म हुआ था। कई पुरानो की अनुसार ब्रह्मा जी के पुत्रो की अलग-अलग धारणा बताई गयी है। जोकि उसमे जो जानकारी हे यहा भी आपको उशी तरह की जानकारी देने की कोसिस करेगे।

इसे भी पढे।

ब्रह्मा जी के पुत्र कुछ इस प्रकार है

  • विष्वकर्मा
  • अधर्म
  • अलक्ष्मी
  • आठवसु
  • चार कुमार
  • 14 मनु
  • 11 रुद्र
  • पुलस्य
  • पुलह
  • अत्रि
  • क्रतु
  • अरणि
  • अंगिरा
  • रुचि
  • भृगु
  • दक्ष
  • कर्दम
  • पंचशिखा
  • वोढु
  • नारद
  • मरिचि
  • अपान्तरतमा
  • वशिष्‍ट
  • प्रचेता
  • हंस
  • यति
  • इसके अलावा और भी मिलाकर 59 पुत्र थे ब्रह्मा जी के

और भी ब्रह्मा जी के पुत्र थे जिसमे कई पुत्रो का जिक्र ज्यादा होता है। और उसकी सूची कुछ इस प्रकार है।

ब्रह्मा जी के प्रमुख पुत्र की जानकारी

  • मन से मारिचि।
  • नेत्र से अत्रि।
  • मुख से अंगिरस।
  • कान से पुलस्त्य।
  • नाभि से पुलह।
  • हाथ से कृतु।
  • त्वचा से भृगु।
  • प्राण से वशिष्ठ।
  • अंगुष्ठ से दक्ष।10.छाया से कंदर्भ।
  • गोद से नारद।
  • इच्छा से सनक, सनन्दन, सनातन और सनतकुमार।
  • शरीर से स्वायंभुव मनु और शतरुपा।
  • ध्यान से चित्रगुप्त।

आसान सवाल

ब्रह्मा के कितने पुत्र?

इस लेख मे मेने ब्रह्मा के कितने पुत्र है इसकी पूरी जानकारी दी हुई हे कृपिया आप इस लेख को पूरा पढे।

ब्रह्मदेव कौन है?

हिन्दू मान्यता के अनुसार ब्रह्मदेव त्रि देव मेसे एक देव हे जोकि हिन्दू धर्म के अनुसार सृष्टि के सर्जन कारता है।

ब्रह्मा जी की पुत्री कौन थी?

हिन्दू पुराण के अनुसार ब्रह्मा जी की पुत्री सरस्वती देवी ही थी। और ब्रह्मा जी ने ही सरस्वती को अपनी सक्तियों से प्रगत किया था।

इन सभी जानकारी को वेद और पुराण मे बताया हुआ है। और मेने इस लेख के माध्यम से यहा ब्रह्मा जी के कितने पुत्र थे? इस सवाल का जवाब दिया हुआ है। अगतर आपको इस लेख से जुड़े कोई भी प्रश्न है तो आप मुजे कमेंट मे बताए मे आपकी जरूर मदद करुगा।

by Mayur
मेरा नाम मयूर है और मे अहमदाबाद शहर से हु। और इस ब्लॉग मे लोगो को इंटरनेट से जुड़ी जानकारी और कई महत्व पुन जानकारी देता हु लेख के रूप मे मुजे उम्मीद है की आपको हमारा ये ब्लॉग पसंद आएगा।

Leave a Comment

close